अभिवृद्धि व विकास के सिद्धांत

अभिवृद्धि व विकास के सिद्धांत – गैरिसन एवं अन्य के अनुसार जब बालक, विकास की एक अवस्था से दूसरी अवस्था में प्रवेश करता है, तब हम उसमें कुछ परिवर्तन देखते हैं। अध्ययनों ने सिद्ध कर दिया है कि ये परिवर्तन निश्चित सिद्धांतों के अनुसार होते हैं। इन्ही को विकास के सिद्धांत कहा जाता है। जो इस प्रकार हैं।

  1. निरन्तर विकास का सिद्धांत
  2. विकास की विभिन्न गति का सिद्धांत
  3. विकास-क्रम का सिद्धांत
  4. विकास दिशा का सिद्धांत
  5. एकीकरण का सिद्धांत
  6. परस्पर सम्बन्ध का सिद्धांत
  7. वैयक्तिक विभिन्नताओं का सिद्धांत
  8. वंशानुक्रम व वातावरण की अंतः क्रिया का सिद्धांत

अगला टॉपिक – अभिवृद्धि और विकास में अंतर [Imp]

पिछला टॉपिक – अभिवृद्धि व विकास का अर्थ एवं परिभाषा

Also Read -  बुद्धि का अर्थ और परिभाषा

Leave a Reply